NEET 2024 में बड़ा बदलाव, मैथ्स के साथ बायोलॉजी लेकर भी दे सकेंगे परीक्षा

हाल ही में नेशनल मेडिकल कमीशन ने NEET 2024 की पात्रता मानदंडों में बदलाव करते हुए बायोलॉजी को एडिशनल विषय के रूप में मान्यता दी है। इससे पहले बायोलॉजी नीट की कोर विषयों में शामिल थी।

यह फैसला 12वीं कक्षा में मैथ्स लेने वाले उन छात्रों के लिए काफी फायदेमंद साबित होगा जो अब बायोलॉजी को एडिशनल विषय के रूप में लेकर NEET की तैयारी कर सकेंगे। एनटीए ने यह भी स्पष्ट किया है कि 2024 में NEET का आयोजन सिर्फ एक बार ही होगा। छात्र चाहते थे कि नीट को भी जेईई की तरह दो बार करवाया जाए।

12वीं मैथ्स के साथ बायो लेने वाले भी दे पाएंगे NEET 2024

अभी तक बायोलॉजी, फिजिक्स, केमिस्ट्री और इंग्लिश चारों ही विषय नीट के लिए अनिवार्य थे। लेकिन नए नियम के तहत, 12वीं में मैथ्स के साथ बायोलॉजी लेने वाले छात्र भी NEET 2024 की परीक्षा दे सकेंगे।

क्यों लिया गया यह बड़ा फैसला?

नीट की पात्रता में बदलाव का मुख्य कारण न्यू एजुकेशन पॉलिसी है, जिसमें विषयों के चयन में छात्रों को लचीलेपन दिया गया है। इसके अलावा, विषय संयोजन को लेकर NMC को भी कई क्वेरीज़ आई थीं। पात्रता से पहले नीट के सिलेबस में भी बदलाव किया गया है (NEET UG 2024 : एमबीबीएस सीटों की संख्या बढ़ने से मेडिकल एस्पायरेंट्स के लिए अच्छी खबर) । यानी, नीट-2024 में दो अहम बदलाव हो चुके हैं। सब्जेक्ट कॉम्बिनेशन को लेकर नेशनल मेडिकल कमीशन के पास भी काफी क्वेरीज आई थी। गौरतलब है कि नीट यूजी में 50 फीसदी सवाल बायोलॉजी और शेष 50 प्रतिशत केमिस्ट्री व फिजिक्स से पूछे जाते हैं। बायोलॉजी में थ्योरी पार्ट अधिक होता है। वहीं फिजिक्स व केमिस्ट्री में कैल्कुलेशन अधिक पूछी जाती है।

12वीं मैथ्स के साथ बायो लेने का क्या फायदा ?

12वीं में मैथ्स लेने वाले छात्रों को यह निर्णय काफी फायदेमंद साबित होगा। बायोलॉजी का अध्ययन करने से उनका खासकर फिजिक्स और केमिस्ट्री मजबूत होगा, जिससे नीट की तैयारी में मदद मिलेगी। बायोलॉजी में थ्योरी अधिक होती है जबकि फिजिक्स और केमिस्ट्री में कैल्कुलेशंस पर जोर रहता है। इन दोनों का संयोजन NEET 2024 की तैयारी के लिए फायदेमंद साबित हो सकता है।

फिर भी क्यों ज़रूरी है बायोलॉजी की पढ़ाई?

बायोलॉजी की अनिवार्यता समाप्त नहीं की गई है। बिना बायो की बेसिक जानकारी के एमबीबीएस नहीं किया जा सकता है। 11वीं व 12वीं की बायोलॉजी की पढ़ाई महत्व अभी भी नीट में बना रहेगा।

नीट में भी 50% सवाल बायोलॉजी से पूछे जाते हैं, इसलिए 11वीं और 12वीं कक्षा की बायोलॉजी की पढ़ाई का महत्व बरकरार है।

इस प्रकार, NEET 2024 में पात्रता को लेकर एनटीए ने बड़ा फैसला लेते हुए 12वीं मैथ्स के साथ बायोलॉजी लेने वालों को भी नीट के लिए पात्र घोषित कर दिया है। यह निर्णय छात्रों को विषय का चुनाव करने में अधिक स्वतंत्रता देगा।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *