शादी में बरसे असीमित टैक्स-मुक्त उपहार – जानें क्या हैं नियम और शर्तें

नवंबर से दिसंबर महीनों में शादियों का मौसम चलता है। इस बार रिकॉर्ड तोड़ शादियां होने की उम्मीद है। नवविवाहित जोड़ों को शादी के मौके पर कई तरह के उपहार और गिफ्ट मिलते हैं। क्या आप जानते हैं कि भारत में इन गिफ्ट्स पर कोई टैक्स नहीं लगता? हां, यह सही है। लेकिन फिर भी कुछ नियम और शर्तें हैं जिन्हें जानना ज़रूरी है। आइए, समझते हैं इन नियमों के बारे में :

कोई सीमा नहीं, सभी उपहार टैक्स-मुक्त

शादी में मिलने वाले किसी भी प्रकार और कीमत के गिफ्ट पर टैक्स नहीं लगता। आयकर अधिनियम 1961 की धारा 56 के तहत नवविवाहित जोड़ों को उनकी शादी के अवसर पर मिलने वाले उपहार पर भारत में टैक्स नहीं लगता है। चाहे वो एक हज़ार रुपए की वस्तु हो या एक करोड़ का फ्लैट। लेकिन आयकर विभाग इस पर निगरानी रखता है। यदि कोई ऐसा व्यक्ति जिसकी आय हैसियत नहीं है, बहुत महंगा गिफ्ट देता है तो उसकी जांच हो सकती है।

सभी के लिए एक समान नियम

ये नियम सभी वर्गों के लिए एक समान हैं। चाहे आप हिंदू , मुस्लिम, सिक्ख या ईसाई हों, शादी में मिलने वाले गिफ्ट पर कोई टैक्स नहीं है। परंतु इसका मतलब ये नहीं कि लापरवाही बरती जाए। नियमों का पालन अवश्य करें।शादी में मिला किसी भी कीमत का कोई भी गिफ्ट टैक्स-फ्री होता है। लेकिन आयकर विभाग गिफ्ट देने और लेने वाले की हैसियत पर नजर रखता है। यदि किसी ऐसे व्यक्ति ने बड़ी रकम या महंगा गिफ्ट दिया है, जो हैसियत नहीं रखता तो आयकर विभाग पूछताछ कर सकता है।

शादी के बाद तक के गिफ्ट भी टैक्स-मुक्त

यह ज़रूरी नहीं है कि गिफ्ट शादी के दिन ही मिला हो। शादी के कुछ दिनों के अंदर मिलने वाले गिफ्ट भी टैक्स से मुक्त हैं। लेकिन इसके बाद अगर कुछ मिलता है तो संदेह का विषय बन सकता है। आयकर अधिनियम में लिखा है कि शादी के मौके पर मिले उपहार कर-मुक्त हैं। यानी ये जरूरी नहीं है कि वो गिफ्ट शादी के दिन ही मिला हो। लेकिन उपहार मिलने की एक वाजिब समय सीमा होना जरूरी है, नहीं तो आयकर विभाग इस पर सवाल उठा सकता है।

सभी गिफ्ट की हो जानकारी, रखें सुरक्षित

नव-दम्पति को चाहिए कि उन्हें जो भी गिफ्ट  मिला हो, उसका पूरा रिकॉर्ड रखें। विशेष रूप से महंगी वस्तुओं की जानकारी सावधानीपूर्वक सुरक्षित रखनी चाहिए। भविष्य में कभी भी आयकर विभाग इसकी मांग कर सकता है।

गिफ्ट से मिलने वाली आय पर लगेगा टैक्स

किसी ऐसे गिफ्ट से जिससे आगे चलकर आपको आय होती है, उस पर टैक्स लगेगा। जैसे, गिफ्ट में मिला मकान अगर आपने किराए पर दे दिया तो उस पर टैक्स देना पड़ेगा।

Also Read : भारत में ही मिल सकेगी विदेशी पढ़ाई की डिग्री, यूजीसी ने दी हरी झंडी – लेकिन टॉप यूनिवर्सिटीज़ के लिए भी शर्तें तय

50 साल के जी-सेक बॉन्ड में निवेश सही रहेगा या गलत? जानें इसके फायदे-नुकसान

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *