भारत का यह गुप्त रहस्यमय राष्ट्रीय उद्यान जहां घूमने पर मिलेगा प्रकृति का वास्तविक आनंद !

प्रिय पाठकों, आपने अक्सर सुना होगा कि ओडिशा में पर्यटन के लिए लोग केवल पुरी, कोणार्क और भुवनेश्वर जाते हैं। लेकिन ओडिशा में ऐसे कई छोटे और अनछुए पर्यटन स्थल भी हैं, जहां आप प्रकृति के वास्तविक आनंद का अनुभव कर सकते हैं।

ओडिशा का एक खूबसूरत लेकिन अनजान राष्ट्रीय उद्यान

आइए आज हम आपको ओडिशा स्थित एक ऐसे ही गुप्त राष्ट्रीय उद्यान – टिकरपाड़ा वाइल्डलाइफ सेंचुरी के बारे में विस्तार से बताते हैं।

टिकरपाड़ा वाइल्डलाइफ सेंचुरी ओडिशा के आंगुल जिले में स्थित है। यह राष्ट्रीय उद्यान लगभग 795 वर्ग किलोमीटर के क्षेत्र में फैला हुआ है।

जंगली जानवरों से भरपूर झील और घाटियों का दर्शन

महानदी की प्राकृतिक रूप से बनी इस घाटी में स्थित इस जंगली इलाके में आपको बाघ, तेंदुए, चार सींग वाले हिरण जैसे जानवरों को देखने को मिलेंगे।

यहां आप घड़ियालों को भी अपने प्राकृतिक वातावरण में स्वतंत्र रूप से रहते देख सकते हैं। टिकरपाड़ा घड़ियालों के संरक्षण और प्रजनन के लिए भी जाना जाता है। इस राष्ट्रीय उद्यान में आपको विभिन्न प्रकार के सांप, मगरमच्छ और मीठे पानी के कछुओं को भी देखने को मिलेगा।

ट्रैकिंग, मछली पकड़ना और नदी का आनंद

टिकरपाड़ा का सबसे खूबसूरत हिस्सा महानदी के किनारे स्थित सातकोसिया घाटी है। यहां की हरियाली और प्राकृतिक सौंदर्य देखते ही बनता है। आप यहां नदी में मछली पकड़ने, ट्रैकिंग करने और रिवर राफ्टिंग का लुत्फ़ उठा सकते हैं।

भीड़भाड़ से दूर शांत पर्यटन का अनुभव

टिकरपाड़ा अभी तक पर्यटकों की भीड़ से अछूता है इसलिए यहां आपको पर्यटकों की भीड़भाड़ से दूर शांति और प्रकृति के वास्तविक आनंद को अनुभव करने का अवसर मिलेगा।

यह अभयारण्य अभी भी अन्य अभयारण्यों की तरह सैलानियों की दृष्टि में नहीं आया है, इसलिए यहां पर कम भीड़, शांति और एकांत मिलता है। यह स्थान भारी उद्योगों से मुक्त है और इसी के कारण प्रदूषण मुक्त भी है। इसलिए जीवन के कोलाहल से ऊबे हुए पर्यटकों के लिए यह शांतिपूर्वक समय बिताने का अवसर देता है। साथ ही वन्य जीवों का संग सोने पे सुहागा है। यहां विदेशी पर्यटक भी बड़ी संख्या में आते हैं।

टिकरपाड़ा के समीप कुछ अन्य स्थलों में लाबांगी है जो ट्रैकिंग के लिए प्रसिद्ध है। महानदी के तट पर बिंकी मंदिर है, जिसमें बिंकी देवी की पूजा होती है। शिशुपत्थर अपने सुंदर दृश्यों के लिए विख्यात है। बादामुल महानदी के तट पर एक पिकनिक स्पॉट है जो टिकरपाड़ा से 20 किमी की दूरी पर स्थित है।

Also Read : ‘ऊटी’ : नीलगिरि के कोहरे से ढके पहाड़ों के बीच बसा है स्वर्ग का द्वार

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *